पर्यटन की नवीन संभावनाओं को उजागर करता ग्रामीण पर्यटन

Authors

  • डॉ. दीपा देवांगन सहायक प्राध्यापक-वाणिज्य शासकीय सुखराम नागे महाविद्यालय नगरी
  • प्रो. श्री पवन कुमार ताम्रकार सहायक प्राध्यापक-वाणिज्य संत गुरू घासीदास स्नाकोत्तर महाविद्यालय कुरूद
  • डॉ. यूगेश्वरी साहू सहायक प्राध्यापक-वाणिज्य शासकीय कमलादेवी राठी महिला पी.जी. कॉलेज राजनांदगांव

Keywords:

ग्रामीण विकास, रोजगार, ग्रामीण पर्यटन, संस्कृति, आर्थिक व सामाजिक विकास

Abstract

भारत के पर्यटन मंत्रालय के साथ छत्तीसगढ़ पर्यटन विभाग ने ग्रामीण पर्यटन स्थलों के विकास पर विशेष बल दिया जो हमारे समृद्धकला, संस्कृति, हथकरघा, विरासत और शिल्प जैसे क्षेत्रों की दृष्टि से गौरवशाली होगा हमारे ग्रामीण परिसर प्राकृतिक सौंदर्य और सांस्कृतिक वैभव दोनांे ही दृष्टियों से समृद्धशाली है,ग्रामीण बदलाव, ग्रामीण पर्यावरण और हमारी संस्कृति के संरक्षण, स्थानीय लोगों की भागीदारी की दृष्टि से ग्रामीण क्षेत्रों के लाभ में लगातार वृद्धि व रोजगारगत विश्वासों और आधुनिक परिवर्तनों के बीच उपयुक्त अनुकुलता ग्रामीण पर्यटन को नई दिशा प्रदान करता हुआ दृष्टिगत हो रहा है।

References

झा लक्ष्मीधर एवं मिश्र रमेन्द्रनाथ (1998) छत्तीसगढ़ का राजनैतिक एवं सांस्कृतिक इतिहास, सेन्ट्रल बुक हाउस रायपुर।

सिंह निशांत (2003) संदर्भ छत्तीसगढ़ में पर्यटन अनमोल प्रकाशन, दिल्ली।

शर्मा डॉ. टी.डी. (2005) छत्तीसगढ़ पर्यटन स्थल प्रकाशन देववत तिवारी प्रताप टाकीज चौक बिलासपुर (छ.ग.)

ब्यास राजेश कुमार (2008) भारत में पर्यटन विधा तिहार, नई दिल्ली ।

शुक्ल डॉ. प्रदीप, पाण्डेय डॉ.सीमा (2006) छत्तीसगढ़ में पर्यटन-वैभव प्रकाशन अमीनपारा बस्ती रायपुर (छ.ग.)

कुरू़क्षेत्र पत्रिका ।

उद्यमिता पत्रिका ।

- www.tourism.gov.in

- Travel and tourison – monthly

Additional Files

Published

15-05-2023

How to Cite

डॉ. दीपा देवांगन, प्रो. श्री पवन कुमार ताम्रकार, & डॉ. यूगेश्वरी साहू. (2023). पर्यटन की नवीन संभावनाओं को उजागर करता ग्रामीण पर्यटन . International Education and Research Journal (IERJ), 9(5). Retrieved from http://ierj.in/journal/index.php/ierj/article/view/2722